Skip to Content

Wednesday, August 23rd, 2017
ठाणे : नाबालिग से बलात्कार के मामले में मां-बेटे को जेल की सज़ा

ठाणे : नाबालिग से बलात्कार के मामले में मां-बेटे को जेल की सज़ा

Closed
by April 19, 2017 India

ठाणे: एक स्थानीय अदालत ने एक नाबालिग लड़की से बलात्कार के मामले में 24-वर्षीय एक व्यक्ति को 15 साल की सश्रम कारावास की सज़ा और अपराध के लिए उकसाने के जुर्म में उसकी मां को 10 साल जेल की सज़ा सुनाई है.

जिला न्यायाधीश मृदुला वीके भाटिया ने स्थानीय ड्राइविंग स्कूल के मालिक सुशांत दुबे और उसकी मां ममता दुबे को सोमवार को सजा सुनाई. सुशांत को आईपीसी की बलात्कार से जुड़ी धारा और यौन अपराध से बच्चों की सुरक्षा कानून (पोस्को) से संबंधित धाराओं के तहत सजा सुनाई गई. उसकी मां को पोस्को कानून (उकसाने) की धारा 17 के तहत सजा सुनाई गई.

अभियोजक एसई फाड ने बताया कि 15-वर्षीय पीड़िता और उसकी बड़ी बहन दुबे के ड्राइविंग स्कूल में काम करती थीं. मार्च 2013 में, ममता ने पीड़िता की मां से लड़की को घरेलू काम में हाथ बंटाने के लिए आने देने को कहा, क्योंकि वह बीमार थी.

अभियोजन पक्ष ने बताया कि कुछ दिन के बाद सुशांत ने लड़की के साथ उस समय बलात्कार किया, जब वह घर में अकेली थी. जब उसने ममता को इस घटना के बारे में बताया कि तो उसने पीड़िता से कहा कि वह उसकी शादी उससे कराने का प्रयास करेगी.

इसके बाद, सुशांत ने कई बार पीड़िता के साथ बलात्कार किया और उसकी मां ने उसे धमकी दी कि यदि उसने इसकी जानकारी किसी को दी तो उसकी हत्या कर दी जाएगी.

Previous
Next